". गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान Skip to main content

मां सिद्धिदात्री की कथा

  मां सिद्धिदात्री – नवरात्रि के पावन अवसर पर मां आदि शक्ति की सिद्धि दात्री रूप की उपासना की जाती है   मां की उपासना से सभी सिद्धियां तथा तथा सभी सुखो की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के नवे मां आदि शक्ति के सिद्धिदात्रि स्‍वरूप की उपासना की जाती है ये सभी प्रकार की सिद्धि देने वाली होती है नवरात्रि के नवे दिन इनकी पूर्ण शास्‍त्रीय विधान से पूजा करने पर पूर्ण निष्‍ठा के साथ पूजा करने पर साधक को सभी प्रकार की सिद्धि प्राप्‍त होती है साधक के लिए ब्रम्‍हाण्‍ड में कुछ भी असाध्‍य नहीं रह जाता है ब्रम्‍हाण्‍ड पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामार्थ्‍य उसमें आ जाती है।   मार्कण्‍डेय पूराण के अनुसार अणिमा   महिमा   गरिमा   लघिमा   प्राप्ति   प्राकाम्‍य ईशित्‍व   और वशित्‍व   ये आठ प्रकार की सिद्धियां होती हैं।   ब्रम्‍हवैवर्तपुराण के अनुसार श्री कृष्‍ण जन्‍म खण्‍ड में इनकी संख्‍या अठारह बताई गई है 1 . अणिमा   2 . लघिमा   3 . प्राप्ति   4 . प्राकाम्‍य   5 . महिमा   6 .   ईशित्‍व , वाशित्‍व   7 .   सर्वकामावसायिता   8 .   सर्वज्ञत्‍व   9 .   दूरश्रवण   10 .   परकायप्रवेशन 11 .   वाक्सि

गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान

 



गर्म दूध पीने के फायदे और नुकसान –            share


हर घर में बचपन से ही बच्‍चो को यह बताया जाता है कि दूध पीना सेहत के लिए बहुत ही अच्‍छा होता है दूध पीने से हडिड्यां मजबूत होती है और विकास भी आपका अच्‍छे से होता है। जब बच्‍चे का जन्‍म होता है तो बच्‍चा पूरी तरह से दूध पर ही निर्भर रहता है और फिर बाद में शरीरिक रूप से स्‍वस्‍थ्‍य रहने के लिए गाय या भैस के दूध का सेवन करते है दूध एक एैसा आहार है जो हमारी पुरी जिन्‍दगी साथ नहीं छोड़ता है , गर्म दूध में भी अनेको स्‍वास्‍थ्‍य लाभ मौजूद रहते है हॉं गर्म दूध पीने से आपको कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त हो सकते है और साथ कई बिमारियों से भी छुटकारा मिलता है आपको यहॉं पर सुबह या साम गर्म दूध पीने से जो स्‍वास्‍थ्‍यलाभ और हानि के बारे में बताया गया है

 

गर्म दूध पीने फायदे या नुकसाद

1.  सुबह गर्म दूध पीने के फायदे

·       गर्म दूध विटामिन से सर्मध्‍द होता है

·       सुबह गर्म दूध पीने से हडिड्यां मजबूत होती है

·       सुबह गर्म दूध पीने से वजन कम होता है

·       तनाव दूर करने के लिए सुबह गर्म दूध पीएं

·       गर्म दूध ऊर्जा से भरपूर रखता है

·       सुबह गर्म दूध पीने के अन्‍य लाभ

·

विटामिन से भरपूर होता है गर्म दूध

    

    ( विटामिन D  की जानकारी Click kare

 

त्‍वचा को गोरी और चमक दार बनाने के लिये गर्म दूध बहुत ही फायदे मंद है गर्म दूध में कई प्रकार के सप्‍लीमेंट्स और विटामिन भी पाए जाते है जो शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए बेहद जरूरी हैं। आपको स्‍वस्‍थ्‍य रहने के लिये रोजाना दो गिलास गर्म दूध अवश्‍य पीएं।

हडिड्यों को मजबूत रखने के लिये सुबह गर्म दूध पीना आवश्‍यक है

 

बच्‍चों को स्‍वस्‍थ्‍य रखने लिये और उनकी हडिड्यों को मजबूत रखने के लिये उन्‍हें सही मात्रा में ही दूध पिलाना चाहिए। और इसके साथ ही वयस्‍क लोगों को भी हडिड्यों के लिये भी गर्म दूध फायदे मंद है। दूध में कैल्शियम और विटामिन डी भी पाया जाता है दूध में इनकी कमी को भी दूर करता है

 

वजन कम करने के लिये गर्म दूध पीना फायदेमंद

 

सुबह गर्म दूध पीने से आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहेगा और भूख भी जल्‍दी नहीं लगेगी।  गर्म दूध में अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है जिसकी वजह से पेट भरा हुआ रहता है इसके अलावा गर्म दूध शरीर में ब्लड शुगर को भी नियंत्रित करता है इसके वजह से आपको दिन भर भूख नहीं लगती है, और थका हुआ भी मह‍सूस नहीं करते। आपका वजन यदि जादा है तो आप एक गिलास कम फैट वाला दूध पीये। इसके अतिरिक्‍त आपको कुछ और खाने की जरूरत नहीं है दूध आपके शरीर में तुजी से कैलोरी बर्न करने में आपकी मदद करेगा। यहॉं पर इस बात का ध्‍यान देना भी बहुत ही आवश्‍यक है की अगर आप वजन कम करना चाहते है तो हमेशा शुध्‍द दूध ही पिये अर्थात की दूध में चीनी या सहद मिला नहीं पीये या कोई मीठा पदार्थ मिला कर दूध प्रयोग में लाये।

 

तनाव को कम करने के लिये सुबह दूध पीना अच्‍छा

 

गर्म दूध में खनिज पदार्थ और विटामिनस होते है जो चिंता जैसी समस्‍या से राहत दिलाते है। यदि आप किसी कार्य या ऑफिस जाने से पहले अपने आपको तनाव मुक्‍त करना चा‍हते है सुबह एक गिलास गर्म दूध जरूर पिये यह तंत्रिका में आए तनाव को करता देता है और मांसपेशियों में आए तनाव को कम करता है।

 

गर्म दूध ऊर्जा से भरपूर रखता है

 

गर्म दूध शरीर के लिए बेहद लाभदायक होता है । यदि आप थकान महसूस का रहे है और अपने शरीर में ऊर्जा को अच्‍छा रखना चाहते है तो एक गिलास गर्म दूध आपके शरीर को अचछी ऊर्जा दे सकता है  

 

सुबह गर्म दूध पीने के कई फायदे

 

गर्म दूध पीने से मासिक धर्म में होने वाले लक्षणों से से आराम मिलता है,चक्‍कर आने व मतली जैसी नहीं होती , सीने में जलन और बॉडी डीहाई ड्रेट रहती है और एसिडिटि नहीं होती।

 

रात में अच्‍छी नीन्‍द के लिये गर्म दूध के फायदे

नींद में भी गर्म दूध कई फायदे है रात में सोने से पहले गर्म दूध पीने से आपकी मासपेसियों को काफी आराम मिलता है , इस तरह आप अच्‍छी नींद ले पाते है और अच्छी नींद न होने से आपको मेटाबॉलिज्‍म सही तरीके से काम नहीं करेता है और आप कई बीमारियों के सिकार भी हो सकते है अगर आपको सही से नींद नहीं मिले तो अपका बजन भी बढ़ जाने की सम्‍भावना होती है इसलिए, एक अच्‍छी नींद के लिए गर्म दूध बहुत जरूरी है।

 

ह्रदय की बीमारी या जोखिम को कम करने के लिये रात को दूध पीना बहुत फायदेमन्‍द

 

गर्म दूध में पोटेशियम होता है जो ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक होता है ह्रदय रोगो को कम करता है साथ ही शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल को भी दूर करता है। अगर आप ह्रदय की बिमारी से पीडि़त है तो वसा वाला दूध न पीये । यह माना जाता है की जो लोग एथलीट वे लोग दूध पीये तो उनकी मांसपेशियां तेजी से बढ़ती है और मजबूत होती है। अगर आप शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिये व्‍यायाम करते है तो आपको व्‍यायाम के एक से दो घण्‍टे बाद ही गर्म दूध पीना चाहिए।

चेहरे को चमकदार बनाने के लिये गर्म दूध बेहद फायदे मंद

 

दॉंतो को मजबूत रखने के लिये अगर आप रात को सोने से पहले गर्म दूध पीये तो यह दॉंतो के लिये बहुत ही अच्‍छा होता है दूध से दॉंतो को मजबूत रखता है और इससे त्‍वचा भी अच्‍छी रहती है त्‍वचा में चमक भी आती है कई शोधो में पाया गया है कि सोने से पहले त्‍वचा में दूध लगाने से त्‍वचा में दाग धब्‍बे व एजिंग की समस्‍या कम हो जाती है और हमें सोने से पहले रात में दूध भी अवश्‍य ही पीना चाहिए रात को दूध पीने से आप की त्‍वचा जवान लगने लगती है क्‍योंकि यह आपकी त्‍वचा में कोलेजन को जमने सुरक्षित रखता है। इससे त्‍वचा में लचीला पन आ जाता है और धीरे धीरे एजिंग की समस्‍या भी धीरे धीरे खतम होने लगती है।

 

गर्म दूध पीने में नुकसान ­–

 

गर्म दूध पीने में कोर्इ नुकसान नहीं है पर यदि लोग इसे अधिक मात्रा में पीते है तो लोगो में ह्रदय से संबंधित बिमारीयों का खतरा बढ़ जाता है या ह्रदय से संबंधित रोगियों को जादा दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

 


 

Comments

Popular posts from this blog

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाए

इम्‍युनिटि जो कि शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है अर्थात शरीर में रोगो से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है जिसको हम रोग प्रतिरोधक क्षमता या प्रतिरक्षा कहा जाता है ये किसी भी प्रकार के सूक्ष्‍मजीव जैसे – रोगो को पैदा करने वाले वायरस , बैक्‍टीरिया   आदि , से शरीर को लड़ने की क्षमता देते है ,  ये ही हमारे शरीर को रोगो से लड़ने की शक्ति देती है । शोधकर्ताओं का मनना है की शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कुछ भोज्‍य पदार्थ बहुत अच्‍छे होते है ताजे फल और सब्जियों में काफी मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट होते है जो शरीर को अनेक बीमारियों से बचाये रहते है। शोधकर्ताओं का एैसा मानना है की आहार , व्‍यायाम , उम्र मानसिक तनाव का भी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर प्रभाव पड़ता है सामान्‍य तौर पर रोग प्रतिरोधक क्षमता को अच्‍छा तथा एक स्‍वस्‍थ्‍य जीवन शैली को बनाये रखने के लिये एक अच्‍छा तरीका है आज इस लेख के माध्‍यम से हम विभिन्‍न भोज्‍य पदार्थो से इम्‍युनिटि को अच्‍छा रखने जानकारी दे रहे है।   स्‍वस्‍थ्‍य जीवन शैली से इम्‍युनिटि को बढ़ाऐं –   इम्‍युनिटि को अपने शरीर में अच्‍छा रखने के ल

मां सिद्धिदात्री की कथा

  मां सिद्धिदात्री – नवरात्रि के पावन अवसर पर मां आदि शक्ति की सिद्धि दात्री रूप की उपासना की जाती है   मां की उपासना से सभी सिद्धियां तथा तथा सभी सुखो की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के नवे मां आदि शक्ति के सिद्धिदात्रि स्‍वरूप की उपासना की जाती है ये सभी प्रकार की सिद्धि देने वाली होती है नवरात्रि के नवे दिन इनकी पूर्ण शास्‍त्रीय विधान से पूजा करने पर पूर्ण निष्‍ठा के साथ पूजा करने पर साधक को सभी प्रकार की सिद्धि प्राप्‍त होती है साधक के लिए ब्रम्‍हाण्‍ड में कुछ भी असाध्‍य नहीं रह जाता है ब्रम्‍हाण्‍ड पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामार्थ्‍य उसमें आ जाती है।   मार्कण्‍डेय पूराण के अनुसार अणिमा   महिमा   गरिमा   लघिमा   प्राप्ति   प्राकाम्‍य ईशित्‍व   और वशित्‍व   ये आठ प्रकार की सिद्धियां होती हैं।   ब्रम्‍हवैवर्तपुराण के अनुसार श्री कृष्‍ण जन्‍म खण्‍ड में इनकी संख्‍या अठारह बताई गई है 1 . अणिमा   2 . लघिमा   3 . प्राप्ति   4 . प्राकाम्‍य   5 . महिमा   6 .   ईशित्‍व , वाशित्‍व   7 .   सर्वकामावसायिता   8 .   सर्वज्ञत्‍व   9 .   दूरश्रवण   10 .   परकायप्रवेशन 11 .   वाक्सि

मां शैलपुत्री की कथा 2020

      मां शैलपुत्री की कथा  नवरात्रि के पावन पर्व में प्रथम दिन  मां शैलपुत्री की कथा www.jankarimy.com जगदम्‍बेश्‍वरी आदि शक्ति के प्रथम स्‍वरूप की कथा जो शैलपुत्री के रूप में जाना जाता है मॉं के ध्‍यान और उपासना सभी कस्‍टो का अंत और पुन्‍य का उदय होता है शास्‍त्रो के अनुसार नवरात्रि में मॉं के अलग अलग स्‍वरूपो की पूजा की जाति है प्रथम दिन मॉं शैल पुत्री की पूजा की जाति है मॉं शैलपुत्री की कथा इस प्रकार एक बाद सति जी के पिता दक्ष ने यज्ञ किया उसमें उन्‍होने सभी देवी ओर देवताओं को आमंत्रण दिया लेकिन शिव जी को कोई निमंत्रण नहीं दिया गया क्‍योंकि दक्ष शिव जी किसी कारण वश ईर्शा रखते थे।   सति जी और शिव जी कैलाश में बैठे थे तब उन्‍होने देवताओं के विमानो को जाते हुऐ देखा उन्‍होने शिव जी से पूछा की ये सब कहा जा रहे है शिव जी ने बताया की आपके पिता ने यज्ञ का आयोजन किया हुआ है ये सब उसी यज्ञ में अपना भाग लेने जा रहे है सति जी ने कहा की हमें भी चलना चाहिये तब शिव जी ने बोला की आपके पिता मुझसे बैर मानते है और उन्‍होने हमें आमंत्रित भी नहीं किया हमें वहॉं नहीं जाना चाहिए ,    पर सति ज