". seb ( apple ) khane ke fayde in 2020 Skip to main content

मां सिद्धिदात्री की कथा

  मां सिद्धिदात्री – नवरात्रि के पावन अवसर पर मां आदि शक्ति की सिद्धि दात्री रूप की उपासना की जाती है   मां की उपासना से सभी सिद्धियां तथा तथा सभी सुखो की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के नवे मां आदि शक्ति के सिद्धिदात्रि स्‍वरूप की उपासना की जाती है ये सभी प्रकार की सिद्धि देने वाली होती है नवरात्रि के नवे दिन इनकी पूर्ण शास्‍त्रीय विधान से पूजा करने पर पूर्ण निष्‍ठा के साथ पूजा करने पर साधक को सभी प्रकार की सिद्धि प्राप्‍त होती है साधक के लिए ब्रम्‍हाण्‍ड में कुछ भी असाध्‍य नहीं रह जाता है ब्रम्‍हाण्‍ड पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामार्थ्‍य उसमें आ जाती है।   मार्कण्‍डेय पूराण के अनुसार अणिमा   महिमा   गरिमा   लघिमा   प्राप्ति   प्राकाम्‍य ईशित्‍व   और वशित्‍व   ये आठ प्रकार की सिद्धियां होती हैं।   ब्रम्‍हवैवर्तपुराण के अनुसार श्री कृष्‍ण जन्‍म खण्‍ड में इनकी संख्‍या अठारह बताई गई है 1 . अणिमा   2 . लघिमा   3 . प्राप्ति   4 . प्राकाम्‍य   5 . महिमा   6 .   ईशित्‍व , वाशित्‍व   7 .   सर्वकामावसायिता   8 .   सर्वज्ञत्‍व   9 .   दूरश्रवण   10 .   परकायप्रवेशन 11 .   वाक्सि

seb ( apple ) khane ke fayde in 2020


                      सेब के फायदे

सेब फल के बारे में आप तो जानते ही होंगे तो आप के लिए कुछ बातो को जानना और भी जरूरी है की सेब किस समय में खाना चाहिए क्‍योंकि आप यदी इस फल को खाने का पूरा फायदा लेना चाहते है तो इसके बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है इस लाल रंग के फल अनेक रहस्‍य जुड़े हुए है सेब का मीठा और रसदार स्‍वाद बहुत पसंद किया जाता है वैज्ञानिकों की भाषा में सेब को मेलस डोमिस्‍टका कहा जाता है एैसा कहा जाता है की सिकंदर महान के मध्‍य एशिया में आने के बाद ही सेब का प्रचलन सुरू हुआ था ।

सेब खाने के फायदे

ह्रदय को स्‍वस्‍थ रखने की लिये सेब - सेब ह्रदय के लिये एक बहुत ही अच्‍छा फल है सेब में कई प्रकार के फायटोन्‍यूट्रियन्‍ट्रस होते है जो की ह्रदय की क्रिया की रक्षा करने में बहुत ही सहायक है यह ह्रदय पर आक्‍सीजन से होने वाली क्षति पर रोक लगा कर ह्रदय रोगों को बढ़ने से पहले ही रोक देता है यह शरीर में कोलेस्‍ट्रोल की मात्रा को घटाता है शुगर को भी कट्रोल में रखता है । यह खून के नियमित प्रभाव को बनाये रखने भी सक्षम है कैलिफोर्निया के विश्‍वविदृालय शोधकर्ताओं के अनुसार दो सेब रोज खाने से या फिर रोज सेब का रस पीने से ह्रदय की बीमारियों से होने वाली मौतो को काफी हद तक कम किया जा सकता है ।

सेब से हडि़डयों को मजबूत बनाऐं –  कैल्सियम उन प्रमुख पोषक तत्‍वों मेसे एक है जो हडि़डयों और दोतों को मजबूत बनाता है सेब कैल्सियम का एक अच्‍छा स्‍त्रोत होता है सेब में मौजूद अधिक कैल्सियम ऑस्टियोपोरोसिस रूमेटोइड गठिया जैसी बीमारी को रोकने में मदद करता है। इसमें एंटी ऑक्सिडेंट़्स पाया जाता है जो न केवल हडि़डयों को मजबूती प्रदान करता है और हडि़डयों को टूटने से भी बचाते हैं । सेब की त्‍वचा में पाया जाना वाला फेवोनोइड फ़्फलोरिजिन रजोनिवृत्ति से जुड़ी हडिड़यों की समस्‍या को भी कम करने में मदद करता है क्‍योंकि यह सूजन और मुक्‍त कणों के उत्‍पादन को कम करने  में भी मदद करता है तो यदि आपको स्‍वस्‍थ और मजबूत हडिड़यॉं चाहिऐ तो आप ताजा सेब को प्रति दिन खाऐं।

सेब खाने से अस्‍थमा से बचाव – आप सेब का सेवन करके अस्‍थमा एवं उसके लक्षणों से लड़ सकते हैं । सेब में फ्लैवोनॉइड्स
फेनालिक एसिड होता है जो वायुयान में यात्रा करने पर आने वाली सूजन को कम करता है  और फेफड़ो को स्‍वस्‍थ रखने में सहायक होता है। यह अस्‍थमा पीडि़त रोगी को अच्‍छे से साँस लेने में सहायक होते है एक ब्रिटिश अध्‍ययन में पाया गया है की जो लोग दो से पॉंच सेब एक सप्‍ताह में सेवन करते है उन लोगो में 32 % अस्‍थमा का खतरा कम हो जाता है ।
मतबूत दॉंत और सफेद दॉंतो के लिये सेब का सेवन – सेब में अनेक लाभ छुपे हुऐ है सेब पानी और फाइबर का एक अच्‍छा स्‍त्रोत है शरीर को अंदर से साफ करने का काम करता है इसमें लार के उत्‍पादन को बढ़ाने के लिए इसमें मैलिक एसिड होता है जिसमें मुह‍ से बैक्‍ट्रीरिया हट जाते हैं। दॉंतो को स्‍वस्‍थ रखने तथा पीलापन हटाने के लिए सेब का सेवन बहुत आवस्‍यक होता है सेब के टूथब्रश के रूप में काम करने के गुण के कारण इसे चबा कर खाने से जिदृी दागों को खतम किया जा सकता है विटामिन और खनिज की उपस्थिति के कारण जो दांतो को स्‍वस्‍थ करने में मदद क‍रते है मसूड़ो को स्‍वस्‍थ रखने के लिए सेब में उपस्थित फाइबर की बहुत ही फायदे मंद होते है चूंकि सेब में शुगर एवं एसिड होता है , इसका सेवन करने के बाद कुल्‍ला करना बहुत आवश्‍यक होता है।

लीवर से विषाक्‍त पदार्थ को दूर करता है सेब – सेब में विष को खतम करने के अच्‍छे गुण होते है और यदि दो दिन तक सेब का सेवन किया जाता है तब इससे शरीर से विषैले पदार्थो के नष्‍ट होने के साथ साथ शरीर के पाचन की पाचन क्रिया तथा रक्‍त के प्रभाव को अच्‍छा कर देता है सेब द्वारा तैयार किया गया काढ़ा शरीर के विषैले पदार्थो को दूर करता है लीवर को स्‍वस्‍थ बनाऐं रखना बहुत आवश्‍यक है शरीर के महत्‍वपूर्ण अंगों को साफ करके ,स्‍वास्‍थ को अच्‍छा रखने मदद करता है शरीर से विषाक्‍त पदार्थो को दूर करने के लिए सेब और सेब का काढ़ा बहुत ही अच्‍छा है।

मस्तिष्‍क का स्‍वस्‍थ रखने के लिए सेब अति आवश्‍यक – उम्र के साथ बढ़ने वाले मानसिक  रोगो को लिए सेब बहुत प्रभाव शाली होता है किसी पशु के अध्‍ध्‍यन में ये देखा गया है की सेब का सेवन मस्तिष्‍क में आक्‍सीजन की मात्रा को बढ़ाता है और मानसिक कमजोरी को दूर करने का काम करता है बुजुर्ग चूहों को यह जब सेव को खिलाया गया तब यह देखा गया की उनकी याददाश्‍त पहले से बहतर हुई है । भूलने की बीमारी अल्‍जाइमर यानि भूलने की बीमारी में सेब का सेवन  काफी लाभ दायक है दिमाक को तेज करने के लिये क्‍वैरसैटिन होता है और दिमाक की कोशिकाओं को स्‍वक्‍थ बनाता है । इसका सेवन छिलके साथ करना चाहिए दिमाक को स्‍वस्‍थ करने के लिए अच्‍छा होता है

अच्‍छा स्‍वस्‍थ कोलेस्‍ट्रॉल के लिए सेब को सेवन – कोलेस्‍ट्रॉल को स्‍वस्‍थ बनाऐं रखने के लिए सेब में पाया जाने वाला पैक्टिन इन्‍सुलिन के उत्‍पाद जिम्‍मेदार होता है पेक्टिन फाइबर और अन्‍य घटक , जैसे एंटीऑक्‍सीडेन्‍ट पॉलीफेनॉल को खराब (LDL) कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम करने के लिए प्रभावशाली माना जाता है यह धमनियों को सख्‍त होने से रोकता है , यह ह्रदय को नुकसान पहुचाने वाले मासपेसियों और रक्‍त वाहिकाओं के खतरे को भी कम करता है शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को नियंत्रित करने के लिए इसमें घुलनशील फाइबर होतो है जिससे ह्रदय के रोगो का खतरा कम हो जाता है  फ्लोरिडा स्‍टेट यूनिवर्सिटी में किए गए अध्‍ययन में किये गए शोध में पाया गया है की जो लोग हर दिन सेब खाते है उनमें कोलेस्‍ट्रॉल अच्‍छा होता है उनकी तुलना में जोकि सेब का सेवन रहीं करते है ।

कैंसर से बचने के लिए सेब के फायदे - सेब एंटीओक्‍सीडेट्स फायटोकैमिकल्‍स का एक अच्‍छा स्‍त्रोत है जो ना केवल कैंसर को शरीर पर कब्‍जा करने तथा ट्यूमर के विकास को रोकता है यह कैंसर की कोशिकाओं को नष्‍ट भी करता है यह पेट ,स्‍तन और जिगर तथा फेफड़ो के कैंसर को रोकने में विशेष रूप से फायदे मंद है। अमेरिकान इन्स्टिट्यूट ऑफ कैंसर के अनुसार रोजाना एक सेब खाने स्‍तन कैंसर की आशंका को 23 % तक रोका जा सकता है अध्‍ययन में य‍ह पाया गया है की महिलाओं के सेब खाने से उनमें होने वाले कैंसर तथा उससे होने वाली मृत्‍यू के खतरे में कमी आती है सेब में पाये जाने वाले एंटीओक्‍सीडेंट और सेजन को कम करने वाले गुणों की वजह से कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है ।

मधुमेय की समस्‍याओं का इलाज – सेब शुगर के होने की खतरे को कम करत है सेब रक्‍त में शुगर की मात्रा को नियंत्रित करत है सेब पाचन क्रिया को प्रभावित करता है और कॉर्बौहाइड्रेट अवशोषण को भी प्रभावित करता है रक्‍त संचरण में भी सुधार लाता है । यह इंसुलिन के उत्‍पादन को भी बढाता है। अध्‍ययन में पाया गया है की जो लोग प्रति सप्‍ताह तीन सेब खाते है उनमें मधुमेंह होने की संभावना 7% तक कम हो जाती है।
वजन घटाने के लिए सब लाभकारी – सेब में कैलोरी कम पाई जाती है इसलिए यह बजन घटाने के लिये भी अच्‍छी होती है लेकिन सेब फाइबर का अच्‍छा स्‍त्रोत होता है इसमें कोई फेट नहीं होता है तो इसका सेवन हमें करना ही चा‍हिए जो महिलाए एक दिन में तीन या इससे भी अधिक सेब का सेवन करती है वे बजन घटाने में उन महिलाओं से अच्‍छी होती है जो सेब नहीं खाती है सेब में फाइबर अच्‍छा होने के कारण ये पेट को भरा हुआ रखता है यह आपके बजन को कम रखता है बार बार खाना खाने की आदत को भी कम रखता है ।
सेब खाने का सही समय – अध्‍ययन के अनुसार , सुबह के समय सेब खाना सबसे फायदेमंद होता है सेब फाइबर और पेक्टिन का अच्‍छा स्‍त्रोत होता है जो लोगो को अनुचित नींद और देरी से नींद के कारण पाचन की समस्‍या होती है । इसलिए सुबह के समय में सेब खाना सबसे अच्‍छा होता है

सेब को खाने से कुछ अन्‍य फायदे –
·       सेब में एंटीऑक्सिडेंट गुण शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली की सुरक्षा करने में मदद करते है।
·       सेब का प्रति दिन सेवन से कब्‍ज ,दस्‍त और पेट दर्द जैसी समस्‍याओं का इलाज करने में मदद करता है।
·       सेब खाने से खाँसी और अस्‍थमा का अंसिक रूप से अच्‍छा  घ्‍रेलु इलाज है।
·
·       सेब द्रष्टि के लिए एक अच्‍छा स्‍त्रोत है यह बच्‍चों में रात के अंधे पन की शिकायत को कम करता है इसमें विटामिन ए पाया जाता है जो ऑंखो के लिए अच्‍छा  होता है।
·       सेब आपकी त्‍वचा का हाइड्रेट करने के साथ साफ भी करता है सेब को काट के रस को चहरे पर लगाऐं।
·       मुहासे और काले धब्‍बे से छुटकारा पाने के लिए,  इसमें मिल्‍क क्रीम के साथ एक चौथाई सेब को भी मिला सकते है इसे अपने चहरे पर लगा सकते है इसमें आपको सनबर्न से भी राहत मिलती है।
     

Comments

Popular posts from this blog

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाए

इम्‍युनिटि जो कि शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ता है अर्थात शरीर में रोगो से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है जिसको हम रोग प्रतिरोधक क्षमता या प्रतिरक्षा कहा जाता है ये किसी भी प्रकार के सूक्ष्‍मजीव जैसे – रोगो को पैदा करने वाले वायरस , बैक्‍टीरिया   आदि , से शरीर को लड़ने की क्षमता देते है ,  ये ही हमारे शरीर को रोगो से लड़ने की शक्ति देती है । शोधकर्ताओं का मनना है की शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कुछ भोज्‍य पदार्थ बहुत अच्‍छे होते है ताजे फल और सब्जियों में काफी मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट होते है जो शरीर को अनेक बीमारियों से बचाये रहते है। शोधकर्ताओं का एैसा मानना है की आहार , व्‍यायाम , उम्र मानसिक तनाव का भी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पर प्रभाव पड़ता है सामान्‍य तौर पर रोग प्रतिरोधक क्षमता को अच्‍छा तथा एक स्‍वस्‍थ्‍य जीवन शैली को बनाये रखने के लिये एक अच्‍छा तरीका है आज इस लेख के माध्‍यम से हम विभिन्‍न भोज्‍य पदार्थो से इम्‍युनिटि को अच्‍छा रखने जानकारी दे रहे है।   स्‍वस्‍थ्‍य जीवन शैली से इम्‍युनिटि को बढ़ाऐं –   इम्‍युनिटि को अपने शरीर में अच्‍छा रखने के ल

मां सिद्धिदात्री की कथा

  मां सिद्धिदात्री – नवरात्रि के पावन अवसर पर मां आदि शक्ति की सिद्धि दात्री रूप की उपासना की जाती है   मां की उपासना से सभी सिद्धियां तथा तथा सभी सुखो की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के नवे मां आदि शक्ति के सिद्धिदात्रि स्‍वरूप की उपासना की जाती है ये सभी प्रकार की सिद्धि देने वाली होती है नवरात्रि के नवे दिन इनकी पूर्ण शास्‍त्रीय विधान से पूजा करने पर पूर्ण निष्‍ठा के साथ पूजा करने पर साधक को सभी प्रकार की सिद्धि प्राप्‍त होती है साधक के लिए ब्रम्‍हाण्‍ड में कुछ भी असाध्‍य नहीं रह जाता है ब्रम्‍हाण्‍ड पूर्ण विजय प्राप्त करने की सामार्थ्‍य उसमें आ जाती है।   मार्कण्‍डेय पूराण के अनुसार अणिमा   महिमा   गरिमा   लघिमा   प्राप्ति   प्राकाम्‍य ईशित्‍व   और वशित्‍व   ये आठ प्रकार की सिद्धियां होती हैं।   ब्रम्‍हवैवर्तपुराण के अनुसार श्री कृष्‍ण जन्‍म खण्‍ड में इनकी संख्‍या अठारह बताई गई है 1 . अणिमा   2 . लघिमा   3 . प्राप्ति   4 . प्राकाम्‍य   5 . महिमा   6 .   ईशित्‍व , वाशित्‍व   7 .   सर्वकामावसायिता   8 .   सर्वज्ञत्‍व   9 .   दूरश्रवण   10 .   परकायप्रवेशन 11 .   वाक्सि

मां शैलपुत्री की कथा 2020

      मां शैलपुत्री की कथा  नवरात्रि के पावन पर्व में प्रथम दिन  मां शैलपुत्री की कथा www.jankarimy.com जगदम्‍बेश्‍वरी आदि शक्ति के प्रथम स्‍वरूप की कथा जो शैलपुत्री के रूप में जाना जाता है मॉं के ध्‍यान और उपासना सभी कस्‍टो का अंत और पुन्‍य का उदय होता है शास्‍त्रो के अनुसार नवरात्रि में मॉं के अलग अलग स्‍वरूपो की पूजा की जाति है प्रथम दिन मॉं शैल पुत्री की पूजा की जाति है मॉं शैलपुत्री की कथा इस प्रकार एक बाद सति जी के पिता दक्ष ने यज्ञ किया उसमें उन्‍होने सभी देवी ओर देवताओं को आमंत्रण दिया लेकिन शिव जी को कोई निमंत्रण नहीं दिया गया क्‍योंकि दक्ष शिव जी किसी कारण वश ईर्शा रखते थे।   सति जी और शिव जी कैलाश में बैठे थे तब उन्‍होने देवताओं के विमानो को जाते हुऐ देखा उन्‍होने शिव जी से पूछा की ये सब कहा जा रहे है शिव जी ने बताया की आपके पिता ने यज्ञ का आयोजन किया हुआ है ये सब उसी यज्ञ में अपना भाग लेने जा रहे है सति जी ने कहा की हमें भी चलना चाहिये तब शिव जी ने बोला की आपके पिता मुझसे बैर मानते है और उन्‍होने हमें आमंत्रित भी नहीं किया हमें वहॉं नहीं जाना चाहिए ,    पर सति ज